त्रिपुरमालिनी शक्तिपीठ देवी तालाब मंदिर जालंधर पंजाब | Tripurmalini Shakti Peeth Jalandhar

मां दुर्गा की प्रमुख शक्तिपीठों में से एक त्रिपुरमालिनी शक्तिपीठ भी है, जो कि देवी तालाब मंदिर के नाम से ज्यादा विख्यात है. इसे ‘स्तनपीठ’ भी कहा जाता है. पंजाब के जालंधर में उत्तर की तरफ रेलवे स्टेशन से सिर्फ 1 किमी की दूरी पर मां भगवती का शक्तिपीठ त्रिपुरमालिनी मां है. इसके अलावा यह मंदिर देवी तालाब मंदिर नाम से जाना जाता है. इस मंदिर के बारें में मान्यता है कि मां सती का इस जगह बांया वक्ष (स्तन) गिरा था, जिसके बाद से मां यहां पर शक्ति ‘त्रिपुरमालिनी’ तथा भैरव ‘भीषण’ के रूप में विराजमान हैं.
वशिष्ठ, व्यास, मनु, जमदग्नि, परशुराम जैसे विभिन्न महर्षियों ने त्रिपुरा मालिनी रूप में यहां आकर पूजा-आराधना की थी. इसके साथ ही भगवान शिव ने जालंधर नाम के राक्षस का वध किया, जिसके बाद से ही इस जगह का नाम जालंधर पड़ गया. मंदिर का शिखर सोने से बनाया गया है. समय-समय पर मंदिर परिसर में मां के जगरातें और नवरात्रों में बड़ी धूम-धाम से मेला लगता है. उस समय इस मंदिर को बहुत सारी मनमोहक झांकियों से सजाया जाता है. कहा जाता है कि यह मंदिर 200 साल पुराना है. यहाँ देवी का वाम स्तन कपड़े से ढका रह्ता है और धातु से बने मुख के दर्शन भक्तों को कराए जाते हैं. यह मंदिर तालाब के मध्य स्थित है, जहां जाने के लिए 12 फ़ीट चौड़ी जगह है. मुख्य भगवती के मंदिर में तीन मूर्ति है. इन तीनों में मूर्ति में मां भगवती के साथ मां लक्ष्मी और मां सरस्वती विराजमान हैं. भक्त इस मंदिर में इन देवियों की मूर्ति की परिक्रमा करते हैं. यह पूरा परिसर लगभग 400 मीटर में फैला हुआ है.

खुलने का समय:
सुबह 4 बजे खुलकर रात 11 बजे तक

आरती:
भस्म आरती: सुबह 4 बजे से 6 बजे तक
नैवद्य आरती: सुबह 7 बजकर 30 मिनट से 8 बजकर 15 मिनट तक
महाभोग आरती: सुबह 10 बजकर 30 मिनट से 11 बजकर 15 मिनट तक
संध्या आरती: शाम 6 बजकर 30 मिनट से 7 बजकर 15 मिनट तक
शयन आरती: रात 10 बजकर 30 मिनट तक

Address:
Tripurmalini Shakti Peeth Devi Talab Temple
Tanda Rd, Shiv Nagar, Industrial Area,
Jalandhar, Punjab 144004

नक्शे और मार्ग के लिए नीचे क्लिक करें.