यशोर यशोरेश्वरी शक्तिपीठ काली मंदिर ईश्वरपुर श्यामनगर सातखिरा बांग्लादेश | Jeshoreshwari Shakti Peeth Kali Temple Satkhira Bangladesh

यह शक्तिपीठ वर्तमान बांग्लादेश में खुलना ज़िले के जैसोर नामक नगर में स्थित है। यहाँ सती की वाम यानी कि बायीं हथेली का निपात हुआ था। यहाँ की सती यशोरेश्वरी तथा शिव चंद्र हैं। यह बांग्लादेश की तीसरी सबसे प्रमुख शक्तिपीठ है।

जानिये पूरी दुनिया में कितनी शक्तिपीठ हैं और वे किन स्थानों पर हैं. 

माना जाता है कि इस मंदिर को एक ब्राह्मण ने बनवाया था, जिसका नाम अनारी था. उसमें यशोरेश्वरी शक्तिपीठ के लिए जो मंदिर बनवाया उसके सौ दरवाजे थे. लेकिन ये किस समय बनवाया गया, उसके बारे में किसी को ज्ञात नहीं है. फिर लक्ष्मण सेन और प्रताप आदित्य ने अपने काल में इसका जीर्णोद्धार कराया. अभी यहाँ शनिवार और मंगलवार की दोपहर में पूजा होती है. लेकिन 1971 से पहले यहाँ प्रतिदिन पूजा होती थी. प्रत्येक वर्ष यहाँ काली पूजा के दिन उत्सव का आयोजन होता है. इस अवसर पर यहाँ मेले का भी आयोजन होता है. मंदिर के पास में ही पहले एक बड़ा आयताकार एक खूबसूरत मंच था. यह मंच ऊपर से ढका हुआ था. इसे नट मंदिर कहा जाता था. यहाँ पर खड़े होने पर सती माता की मूर्ति देखी जा सकती थी. इसको जीर्णोद्धार तेरहवीं शताब्दी में लक्ष्मण सेन ने करवाया था. लेकिन 1971 के बाद इसे गिरा दिया गया. अब यहाँ निशानी के तौर पर खम्भे ही बचे हैं. यह शक्तिपीठ ईश्वरपुर, श्यामनगर उपनगर, सातखिरा जिला में स्थित है। निकटतम हवाई अड्डा बांग्लादेश की राजधानी ढाका में है।