नंदीपुर शक्तिपीठ सैन्थिया पश्चिम बंगाल | Nandipur Shakti Peeth Nandikeshwar Sainthia W Bengal

पश्चिम बंगाल के बोलपुर (शांति निकेतन) से 33 कि.मी. दूर सैन्थिया रेलवे जंक्शन से अग्निकोण में, थोड़ी दूर रेलवे लाइन के निकट ही एक वटवृक्ष के नीचे देवी मन्दिर है, यह एक शक्तिपीठ है। यहाँ देवी सती की देह से कण्ठहार गिरा था। मंदिर में सती नन्दिनी और शिव नन्दिकेश्वर रूप में विराजते हैं। नन्दीपुर शक्तिपीठ को नन्दिकेश्वर मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। नन्दीपुर शक्ति पीठ में देवी, एक कछुआ के आकार की चट्टान के रूप में विराजमान है। इस चट्टान को सिन्दूर से पूरी तरह रंगा जाता है। देवी के इस रूप पर एक चांदी का मुकुट और सोने की तीन आँखे है। इस मंदिर में अन्य देवी देवताओं के छोटे बड़े मंदिर स्थापित है। इस परिसर में एक पवित्र पेड़ है, जिस पर भक्त अपनी इच्छाओं की पूर्ति के लिए लाल धागा बांधते है।

जानिये पूरी दुनिया में कितनी शक्तिपीठ हैं और वे किन स्थानों पर हैं. 
नन्दीपुर शक्ति पीठ में सभी त्यौहार मनाये जाते है विशेष कर दुर्गा पूजा और नवरात्र के त्यौहार पर विशेष पूजा का आयोजन किया जाता है। त्यौहार के दिनों में मंदिर को फूलो और लाइट से सजाया जाता है। मंदिर का आध्यात्मिक वातावरण श्रद्धालुओं के दिल और दिमाग को शांति प्रदान करता है। बीरभूम में विभिन्न स्थानों से शुरू होने वाली कई सीधी बसों से यहाँ पहुंचा जा सकता है।