गणेश मंदिर माउंट ब्रोमो इंडोनेशिया | Ganesha Temple Mount Bromo Indonesia

क्या आपने ज्वालामुखी पर मंदिर के बारे में सुना है? इंडोनेशिया के सक्रिय ज्वालामुखी माउंट ब्रोमो के शीर्ष पर 700 साल पुरानी गणेशजी की मूर्ति है। वहां के लोगों का मानना है कि गणेशजी उनके रक्षक हैं। इसी पहाड़ पर ब्रह्माजी का एक मंदिर भी है, जिसे वहां लोग पुरा लुहुर पोतेन कहते हैं।
दैनिक भास्कर को इंडोनेशिया के हिंदू धर्म परिषद के अध्यक्ष केतूत डोंडेर ने इस महान परंपरा के बारे में बताया। उन्होंने बताया, आसपास के 48 गांवों के तीन लाख हिंदुओं का विश्वास है कि गणेश उनके रक्षक हैं। दरअसल, जावा की जैवनीज भाषा में ब्रह्मा को ब्रोमो कहते हैं। यूं तो माउंट ब्रोमो पर सालभर गणपति की पूजा होती है, पर मुख्य आयोजन जुलाई में 15 दिन तक चलता है। पांच सौ साल से ज्यादा पुरानी यह परंपरा ‘याद्नया कासडा’ कहलाती है, जो कभी रुकी नहीं। चाहे ज्वालामुखी में भीषण विस्फोट ही क्यों न हो रहे हों। 2016 में ज्वालामुखी में विस्फोट हो रहे थे। तब भी सरकार ने सिर्फ 15 पुजारियों को पूजा की अनुमति दी थी। पर हजारों की संख्या में लोग पहुंच गए थे। लोगों का मानना है कि गणपति की पूजा नहीं होने से अनिष्ट हो सकता है। इंडोनेशिया में गणेश की इतनी मान्यता है कि वहां के 20 हजार के नोट पर भी गणेश की तस्वीर है।

English Roman font me padhen:
Kyaa aapane jvaalaamukhee par mndir ke baare men sunaa hai? Inḍaoneshiyaa ke sakriy jvaalaamukhee maa_unṭ bromo ke sheerṣ par 700 saal puraanee gaṇaeshajee kee moorti hai. Vahaan ke logon kaa maananaa hai ki gaṇaeshajee unake rakṣak hain. Isee pahaad par brahmaajee kaa ek mndir bhee hai, jise vahaan log puraa luhur poten kahate hain. Dainik bhaaskar ke anusaar inḍaoneshiyaa ke hindoo dharm pariṣad ke adhyakṣ ketoot ḍaonḍaer ne is mahaan parnparaa ke baare men bataayaa. Unhonne bataayaa, aasapaas ke 48 gaanvon ke teen laakh hinduon kaa vishvaas hai ki gaṇaesh unake rakṣak hain. Dara_asal, jaavaa kee jaivaneej bhaaṣaa men brahmaa ko bromo kahate hain.

Yoon to maa_unṭ bromo par saalabhar gaṇaapati kee poojaa hotee hai, par mukhy aayojan julaa_ii men 15 din tak chalataa hai. Paanch sau saal se jyaadaa puraanee yah parnparaa ‘yaadnayaa kaasaḍaa’ kahalaatee hai, jo kabhee rukee naheen. Chaahe jvaalaamukhee men bheeṣaṇa visfoṭ hee kyon n ho rahe hon. 2016 men jvaalaamukhee men visfoṭ ho rahe the. Tab bhee sarakaar ne sirf 15 pujaariyon ko poojaa kee anumati dee thee. Par hajaaron kee snkhyaa men log pahunch ga_e the. Logon kaa maananaa hai ki gaṇaapati kee poojaa naheen hone se aniṣṭ ho sakataa hai. Inḍaoneshiyaa men gaṇaesh kee itanee maanyataa hai ki vahaan ke 20 hajaar ke noṭ par bhee gaṇaesh kee tasveer hai.