श्री शक्ति मंदिर बुकिट रोटन कुआला सेलांगोर मलेशिया | Sri Shakti Temple Bukit Rotan Kuala Selangor Malaysia

क्या आपको पता है कि दुनिया में एक ऐसा मंदिर भी है, जहाँ आप सभी 51 शक्तिपीठों के एक साथ दर्शन कर सकते हैं. हम जिस मंदिर का जिक्र कर रहे हैं, इस मंदिर में दर्शन करने के लिए आपको मलेशिया जाना पड़ेगा. यह मंदिर मलेशिया के कुआला सेलांगोर के बुकिट रोटन में हैं. यह मलेशिया के खूबसूरत हिन्दू मंदिरों में से एक है. साथ ही एक प्रमुख टूरिस्ट स्पॉट के रूप में प्रसिद्ध भी हो रहा है.
मलेशिया में यह कोई सैकड़ों साल पुराना मंदिर नहीं है बल्कि 25 अप्रैल 2013 में इसका निर्माण पूरा हुआ. इस मंदिर को बनने में चार साल का समय लगा जबकि वेद और शास्त्रोक्त तरीके से इस मंदिर के निर्माण की योजना में 11 साल लगा. दो संतों ने सभी 51 शक्तिपीठों वाले स्थान की यात्रा की. वहां से इन्होंने मिट्टी और पांच धातुओं से बना चक्र एकत्र किया. जिन्हें इस मंदिर में समर्पित किया गया. मंदिर के दुर्लभ होने की सबसे बड़ी वजह यह है कि 51 शक्तिपीठों की देवियाँ यहाँ स्थापित हैं. जैसा कि आप जानते हैं 51 शक्तिपीठ भारतीय उपमहाद्वीप में विभिन्न स्थानों पर स्थापित हैं. वर्तमान समय में 44 स्थान भारत में है जबकि एक बांग्लादेश, तीन नेपाल, एक पाकिस्तान, एक तिब्बत और एक श्रीलंका में है.

जानिए किन चार शक्तिपीठों को महाशक्तिपीठ कहा जाता है
मंदिर 96 नक्काशीदार स्तंभों के आधार पर बना, जो हिंदुत्व के 96 सार्वभौमिक सिद्धातों का प्रतिनिधित्व करते हैं. ये एक खूबसूरत दीवार से घिरे हुए हैं. मंदिर का राज गोपुरम 74 फुट ऊंचा है. मंदिर का मुख्य द्वार ग्रेनाइड पत्थर का 18 फुट ऊंचा नक्काशीदार बना हुआ है. इसका वजन 4 टन का है और इसे भारत के प्राचीन शहर महाबलिपुरम के कुशल कारीगरों ने बनाया है. ग्रेनाइड की अन्य खूबसूरत निर्माण में से एक केवल पत्थर से बनाया गया शेर है, जिसके मुंह के अन्दर पत्थर की स्वतंत्र गेंद है, जिसे मुंह के अन्दर आसानी से घुमाया जा सकता है लेकिन शेर के मुंह से उस गेंद को निकाला नहीं जा सकता. हाथी के बच्चों की खूबसूरत मूर्तियाँ यहाँ बनी हुई हैं, इनके साथ पौराणिक जीव व्याल या याली भी बने हुए हैं. इस मंदिर की वास्तुकला भारतीयता का उत्कृष्ट उदाहरण है. साथ ही इस बात का परिचायक भी कि अब पत्थरों को खूबसूरत कला के रूप ढालने वाले कलाकार आज भी भारत में मौजूद हैं.
समय :
सुबह 5.30 AM – 12.30 PM (प्रतिदिन)
शाम 4:30 PM – 9.30 PM (प्रतिदिन)
शाम की प्रार्थना शाम 7 बजे शुरू होती है. शुक्रवार, शनिवार और रविवार को दिन का खाना भी होता है.